in , ,

कांशी राम के 10 अनमोल विचार व कथन जो आपको पढ़ने चाहिए

बीएसपी के संस्थापक कांशी राम के 10 अनमोल विचार व कथन यहां दिए गए हैं। जिस पर दलितों को गंभीरता से सोचना चाहिए और अपने सुझावों को व्यवहार में लाना चाहिए। Read it in English from 10 Quotes of Kanshi Ram You Should Read

  1. ऊंची जातियां हमसे पूछती हैं कि हम उन्हें पार्टी में शामिल क्यों नहीं करते, लेकिन मैं उनसे कहता हूं कि आप अन्य सभी दलों का नेतृत्व कर रहे हैं। यदि आप हमारी पार्टी में शामिल होंगे तो आप बदलाव को रोकेंगे। मुझे पार्टी में ऊंची जातियों को लेकर डर लगता है। वे यथास्थिति बनाए रखने की कोशिश करते हैं और हमेशा नेतृत्व संभालने की कोशिश करते हैं। यह सिस्टम को बदलने की प्रक्रिया को रोक देगा।
  2. जब तक, जाति है, मैं अपने समुदाय के लाभ के लिए इसका उपयोग करूँगा। यदि आपको कोई समस्या है, तो जाति व्यवस्था को समाप्त करें।
  3. जहाँ ब्राह्मणवाद एक सफलता है, कोई अन्य ’ वाद’ सफल नहीं हो सकता है, हमें मौलिक, संरचनात्मक, सामाजिक परिवर्तनों की आवश्यकता है।
  4. बहुत लंबे समय से हम सिस्टम के दरवाजे खटखटा रहे हैं, न्याय मांग रहे हैं और न्याय नहीं पा रहे हैं, इन हथकड़ियों को तोड़ने का समय आ गया है।
  5. हम तब तक नहीं रुकेंगे जब तक हम व्यवस्था के पीड़ितों को एकजुट नहीं करेंगे और हमारे देश में असमानता की भावना को खत्म नहीं करेंगे।
  6. मैं गांधी को शंकराचार्य और मनु (मनु स्मृति के) की श्रेणी में रखता हूं जो उन्होंने बड़ी चतुराई से 52% ओबीसी को किनारे रखने में कामयाब रहे।
  7. जिस समुदाय का राजनीतिक व्यवस्था में प्रतिनिधित्व नहीं है, वह समुदाय मर चुका है।
  8. हम सामाजिक न्याय नहीं चाहते हैं, हम सामाजिक परिवर्तन चाहते हैं। सामाजिक न्याय सत्ता में मौजूद व्यक्ति पर निर्भर करता है। मान लीजिए, एक समय में, कोई अच्छा नेता सत्ता में आता है और लोग सामाजिक न्याय प्राप्त करते हैं और खुश होते हैं लेकिन जब एक बुरा नेता सत्ता में आता है तो वह फिर से अन्याय में बदल जाता है। इसलिए, हम संपूर्ण सामाजिक परिवर्तन चाहते हैं।
  9. जब तक हम राजनीति में सफल नहीं होंगे और हमारे हाथों में शक्ति नहीं होगी, तब तक सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन संभव नहीं है। राजनीतिक शक्ति सफलता की कुंजी है।
  10. सत्ता पाने के लिए जन आंदोलन की जरूरत होती है, उस जन आंदोलन को वोटों में परिवर्तित करना, फिर वोटों को सीटों में बदलना, सीटों को [सत्ता में] परिवर्तित करना और अंतिम रूप से [सत्ता में] केंद्र में परिवर्तित करना। यह हमारे लिए मिशन और लक्ष्य है।

ये कांशीराम के उद्धरण थे जो हमें दिलचस्प लगे। आप इन उद्धरणों के बारे में क्या सोचते हैं और दलित इन्हें कैसे व्यवहार में ला सकते हैं? हमें टिप्पणियों में बताएं इसे अपने दोस्तों और परिवारों के साथ भी साझा करें।

Translated from English to Hindi by Amandeep Singh

One Comment

Leave a Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

dalit-and-black-lives-matter

“जाती” और “नस्ल” – दो अलग तरह के भेदभाव लेकिन अनगिनत समानताएं

vivekananda

विवेकानंद की जातिवादी मानसिकता का प्रदर्शन करते कुछ कथन